आशीषों की आवश्यकता।

aashishon ki avashyakta
पार्थ!
26 Apr 2019

भागवतम हमें पूरी (निर्व्यालीकेन) तरीके से पूर्ण आत्मसमर्पण समझाना चाहता है (भागवताम् 3.13.9)। फिर एक भयावह चीज़ होती है- स्वाती स्ताद वांम् क्षितीस्वर (अर्थ यह है, आप ही सभी आशीर्वाद हो)। यहां, ब्रह्मा मनु को जगत के स्वामी के रूप में बोल रहे हैं, उन्हें बहुत ही सम्मानजनक तरीके से संबोधित करते हुए और आशीर्वाद दे रहें हैं (उनके पूर्ण आत्मसमर्पण से प्रसन्न)।

अब, हम आशीर्वाद चाहते हैं और यहां हमें उन्हें प्राप्त करने का रास्ता है। हमारे पास समर्पण का उचित भाव है और फिर हम स्वत: आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। आशीषें वो हैं जो किसी भी प्रयास को सफल बनाते हैं।

इसे दूसरे तरीके से कहो तो आशीर्वाद के बिना किसी भी मात्रा में प्रयास सफल होने वाला नहीं है। उदाहरण के लिए, व्यासदेव ने महसूस किया कि कुछ तो कमी है और उनके हृदय में यह चुभन होती रही थी (भागवताम् 1.4.30)।

यहां तक ​​कि अगर कुछ शुरू भी होने लगे और यह आशीषों के बिना है, तो कुछ समय बाद सबकुछ तितर बितर हो जाता है क्योंकि इसे निरंतर बनाये रखने के लिए आशीर्वाद की आवश्यकता होती है।

परम पुज्य रोमपाद स्वामी के प्रवचन, भागवताम 3.13.9 से “पूर्ण रूप से गुरू और कृष्ण को समर्पण" नामक शीर्षक से लिया गया।

0
454