क्या भगवान पक्षपात करते है?

Bias
आदित्य!
26 Apr 2019

क्या भगवान पक्षपात करते है या अपने तक़दीर का निर्माण हम करते हैं?

 

ऐसा नहीं है, वह पक्षपात करते है। यह, वे अपने भक्त के स्नेह के साथ आदान प्रदान करते है। वे आदान प्रदान करते है। यहां प्रभुपाद इसे किस तरह समझाते हैं। हिरण्यकश्यपु ने भगवान को अपने वैरी के रूप में चाहा। तो प्रभु ने कहा “ओह!  तुम मुझे अपने दुश्मन के रूप में  चाहते हो? बहुत अच्छा, मैं तुम्हारा दुश्मन बनूंगा। और प्रहलादजी ने कहा "मैं चाहता हूँ आप मेरे भगवान बनो", "ओह! आप मुझे अपने भगवान के रूप में  चाहते हो?  

बहुत अच्छा, मैं तुम्हारा भगवान बनूंगा। वह केवल आदान प्रदान करते है। प्रपद्यन्ते - ये यथा मा प्रपद्यन्ते तांस तथैव भजामि अहम्....  यह दिलचस्प है!  भजामी - जैसा वे भजामी, जैसे वे कृष्ण को पूजते हैं, जैसे वे कृष्ण को ध्यान करते हैं, कृष्ण उनके साथ वैसे ही अपने संबंध बनाते हैं। जैसा वे कृष्ण का ध्यान करते हैं। वे कल्पवृक्ष है। वह अपने भक्त के लिए पक्षपाती प्रतीत होते है 'भक्त-वत्सल' हैं - यह उनके उत्कृष्ट गुणों में से एक है।

भक्त-वत्सल, भगवान का उत्कृष्ट गुण है। वे अपने भक्त के प्रति परम दयालु हैं। बस भक्त के हृदय में उसके साथ आदान प्रदान। इसलिए, यहां एक और अच्छा वाक्य है, किंतु हमें यह मिलेगा, जिस अनुपात या उनको ध्यान में रखते हैं, जैसे हम प्रभु को चाहते है, वैसे वे हमारे साथ आदान प्रदान करते हैं। यह हमारे हाथ में है, चाहे हम भगवान के पास वापस जाएं, या हम थोड़ी देर के लिए यहां रह जाएं, यह हमारे हाथ में है।

- रोमपाद स्वामी 

0
1093