क्या मैं अपने उत्तेजित मन को नियंत्रित कर सकता हूं?

vedashindi
आदित्य!
9 Aug 2018

क्या मैं अपने उत्तेजित मन को नियंत्रित कर सकता हूं? रोमपाद स्वामी द्वारा लिखित

 

प्रश्न: महिलाओं की उपस्थिति में मन के आवेश को कैसे नियंत्रित किया जाए?

रोमपाद स्वामी द्वारा उत्तर: जब एक मोमबत्ती एक निर्बाध जगह में होती है, तो उसकी लौ झिलमिलाहट से मुक्त रहती है और बुझती नहीं है। दिमाग भी लौ की तरह बहुत सारी भौतिक इच्छाओं के प्रति संवेदनशील है कि थोड़ी सी आवेश से यह आगे बढ़ेगा। मन की एक छोटी सी हरकत भावना के पूरे ध्यान को बदल सकता है। लेकिन इस मन को कृष्ण भावनमृत द्वारा नियंत्रित किया जा सकता है। नीचे कुछ बिंदु हैं जो मन को नियंत्रित करने में मदद करेंगे:

हरे कृष्ण महामंत्र का नियमित रूप से जप करे और जप को पर्याप्त जोर जोर से बोले ताकि स्वयं को सुनायी दे। दिव्य ध्वनि अवांछित (कृष्ण चेतना के लिए अनुकूल नहीं) विचारों और इच्छाओं से मन को शुद्ध करने में मदद करेगी।

श्रील प्रभुपाद की किताबें नियमित रूप से पढ़ें करें अगर सम्भव होतो भक्तों के संग में और कुछ भक्ति सेवा करें। मंदिर में एक प्रतिबद्ध सेवा ले लो)।

कृष्ण से ईमानदारी से प्रार्थना करें ताकि आप अपने मन को स्थिर रख सकें।

चाणक्य पंडित ने कहा कि प्रत्येक पुरुष को अपनी पत्नी को छोड़कर अन्य सभी महिलाओं को माता की तरह देखना चाहिए। यह भाव जानबूझकर पैदा करें।

बस मन को कृष्ण के ऊपर लगायें और कृष्ण की बात करें और उनके बारे में सोचें। तब यह आवेश आपको परेशान नहीं करेगा। गीता का 2.59 श्लोक देखें।

जैसे जैसे आपका हृदय महामंत्र जाप की विधि से अधिक से अधिक शुद्ध हो जाता है, आप कृष्ण की सेवा में निरंतर खुशी महसूस करेंगे और उस समय कृष्ण भक्त से सभी पापी क्रियाएं ले लेते हैं, इस प्रकार उन्हें जीवन के सभी संकटों से बचाते हैं। इसके लिए अभ्यास के एक बडे सामना की आवश्यकता है। लेकिन सफल होने के लिए लगातार और दृढ़ रहना होगा। कृष्ण हमारे ईमानदार प्रयास को देखते है और जब हम उसकी आश्रय लेते हैं तो निश्चित रूप से मदद करेंगे।

2
1131