प्रार्थना का मतलब क्या है?

vedashindi
आदित्य!
20 Aug 2018

प्रार्थना का मतलब क्या है? रोमपाद स्वामी द्वारा लिखित: 

 

प्रश्न: प्रार्थना पर मेरे चिंतन मुझे प्रार्थना की स्पष्ट परिभाषा के लिए पूछते हैं। मैंने सुना है कि इसका मतलब भगवान की महिमा का गुणगान करना है। यह भी कि पवित्र नाम का जप करना सबसे अच्छी प्रार्थना है। इसके अलावा प्रार्थना का मतलब एक तीव्र इच्छा है।


प्रार्थना का मतलब क्या है? क्या यह भगवान को स्वीकार कर रहा है और मेरी इच्छाओ को उनकी इच्छा के अधीन करना है?

मैं ऐसे दिल से कैसे प्रार्थना कर सकता हूं जो कृष्ण और उनके भक्तों के बारे में अक्सर संदिग्ध हो जाता है? फिर भी मैं प्रार्थना करता हूं क्योंकि मैंने देखा है कुछ और काम नहीं करता और मुझे ऐसा करने की अनुरोध किया गया है। आपके के कुछ उत्तरों को पढ़कर लगा कि मुझे इस पर स्पष्टीकरण की ज़रूरत है।

रोमपाद स्वामी द्वारा उत्तर: प्रार्थना, या वंदनम, भक्ति की नौ प्रक्रियाओं में से छठा है। प्रार्थना का शब्दकोश अर्थ "भगवान के साथ एक आध्यात्मिक सम्बन्ध या पूजा के लक्ष्य के रूप में परिभाषित किया गया है, जैसे कि याचना, कृतज्ञता, आराधना, या स्वीकारना"।

प्रार्थना कृष्ण के साथ हमारे हृदय की अभिव्यक्ति को व्यक्त करने का एक अनोखा तरीका है; यह भगवान के साथ हमारे दिल को व्यक्त करने का एक तरीका है। प्रार्थना गहन भाव और ईमानदारी से व्यक्त करने का तरीक़ा है जोकि भगवान द्वारा स्वीकारी जाती है। प्रार्थना हमारे ऊपर जो कोई है, उसको दर्शाता है, उससे भी उच्च या हमसे परे। जैसा कि हमारी इंद्रियां और मन वहाँ तक नहीं पहुंच सकतीं है, प्रार्थनाएं पहुंच सकती हैं हालांकि प्रार्थना करने के लिए हम इंद्रियों और मन का उपयोग कर रहे हैं।

कलिकाल में सभी के लिए प्रार्थना करने का सबसे अच्छा तरीका ईमानदारी से महा-मंत्र का जप करना है।

प्रार्थना का मुख्य उद्देश्य भौतिक संसाधनों या यहां तक ​​कि आध्यात्मिक मोक्ष भी प्राप्त करना नहीं है। प्रार्थना की शक्ति तब आती है जब हम कृष्ण से उनकी इच्छा पूरी करने की इच्छा से कहते हैं। इस तरह की शुद्ध प्रार्थनाओ का अंत नहीं हैं बल्कि वे स्वयं भगवान और उनके शुद्ध भक्तों के बीच आदान-प्रदान के लिए हैं। चाहे हम भौतिक संसार में हमारे अंधेरे में गिरे वाले अवस्था से उनको बुलाएं, या चाहे हम ईश्वर के साम्राज्य में अपने मुक्त अवस्था में उनके पार्षद के बीच उसकी प्रशंसा करते हैं, शुद्ध प्रार्थना वही है: "कृपया मुझे अपनी सेवा में लगायें"।

श्रील प्रभुपाद ने हरे कृष्ण महा मंत्र का अर्थ निम्नानुसार बताया: "मंत्र भगवान के लिए एक आध्यात्मिक आह्वान है, जिसका अर्थ है, 'हे भगवान की ऊर्जा, कृपया मुझे भगवान कृष्ण की प्रेमपूर्ण सेवा में शामिल करें।' हरे कृष्ण का जप करते हुए सीधे आध्यात्मिक मंच से अधिनियमित होते हैं, चेतना के सभी निचले चरणों को पार करते हैं, जोकि कामुक, मानसिक और बौद्धिक। मंत्र की भाषा को समझने की कोई आवश्यकता नहीं है, न ही मानसिक अटकलों की कोई आवश्यकता है, न ही इस महा-मंत्र का जप करने के लिए कोई बौद्धिक समायोजन की आवश्यकता है। यह स्वचालित रूप से आध्यात्मिक मंच से उगता है, और इस तरह कोई भी इस दिव्य ध्वनि के कंपन में बिना किसी भी पिछली योग्यता के और उत्साह के साथ नृत्य में भाग ले सकता है। 

हरा शब्द भगवान की ऊर्जा को संबोधित करने की एक विधि है। कृष्ण और राम दोनों सीधे भगवान को संबोधित करने के रूप हैं, और उनका मतलब है "सर्वोच्च सुख"। हरा भगवान की सर्वोच्च आनंददायक शक्ति है, हरे के रूप में संबोधित यह शक्ति, हमें भगवान तक पहुंचने में मदद करती है। तीन शब्द-अर्थात् हरे, कृष्ण और राम महा-मंत्र के दिव्य बीज हैं, और मंत्र बद्ध आत्माओं को संरक्षण देने के लिए भगवान और उनकी आंतरिक ऊर्जा, हरा के लिए आध्यात्मिक आह्वान है। जप पूरी तरह से बच्चे द्वारा अपनी मां के लिए रोने की तरह है। माता हरा हमारे सर्वोच्च पिता हरि यानीकि कृष्ण की कृपा प्राप्त करने में मदद करती है, और ऐसे ईमानदार भक्तों के लिए भगवान स्वयं को प्रकट करते हैं"।

महा मंत्र का जप करने के कई फायदों में से कुछ नीचे उल्लिखित हैं:

1. केवल भगवान के पवित्र नाम का जप करके सभी पापों के प्रभाव से मुक्त किया जा सकता है।

2. हरे कृष्ण महा मंत्र का जप करके जप करने वाला सीधे कृष्ण से जुड़ा हुआ है।

3. हरे कृष्ण का जप भगवतप्रेम को जागृत करता है।

4. हरे कृष्ण के जप के रास्ते में मुक्ति का लाभ एक उत्पाद के रूप में मिलता है।

5. जब कोई हरे कृष्ण का जप करता है, तो वह स्वत: रूप से ज्ञान और वैराग्य विकसित करता है।

6. हरे कृष्ण का जप करने वाला जन्म और मृत्यु के अंतहीन चक्र से बाहर हो जाता है।

7. हरे कृष्ण का जप करते हुए हृदय से सभी भ्रम और गलतफहमी साफ हो जाता है।

8. हरे कृष्ण का जप करके, कोईभी सभी चिंताओं से मुक्त हो जाता है...

9. जप करने के लिए कोई कठोर और तेज़ नियम नहीं हैं। किसी भी परिस्थिति में, किसी भी समय, कहीं भी किया जा सकता है।

10. कृष्ण स्वयं अपने नाम की दिव्य ध्वनि में पूरी तरह उपस्थित हैं।

11. सभी अन्य वैदिक मंत्रों को हरे कृष्ण महा मंत्र के जप में शामिल किया गया है।

12. जो व्यक्ति हरे कृष्ण मंत्र का जप करता है वह सभी अच्छे गुण विकसित करता है।
 

1
546