सबसे वरिष्ठ वैष्णव के रूप में भगवान शिव की पूजा

vedashindi
राजेश पाण्डेय, पीएच॰डी॰ !
4 Mar 2019

प्रश्न १: भगवान कृष्ण ने अर्जुन से कहा: "जो लोग सीधे मेरे भक्त होने का दावा करते हैं, वे वास्तव में मेरे भक्त नहीं हैं। लेकिन जो मेरे भक्त हैं के भक्त है वे वास्तव में मेरे भक्त हैं।" प्रथम स्कन्द के श्रीमद भागवताम के तात्पर्य में, श्रील प्रभुपाद का उल्लेख है कि भगवान शिव भगवान कृष्ण के शुद्ध भक्त हैं। उपरोक्त श्लोक के अनुसार, क्या इसका सीधा अर्थ यह नहीं है कि हम सभी को भगवान शिव की सेवा करनी चाहिए? यह कितना उचित है?

उत्तर: हां, एक महान भक्त के रूप में भगवान शिव निश्चित रूप से पूजनीय हैं, लेकिन स्वतंत्र रूप से नहीं। भगवान शिव चार प्राथमिक आध्यात्मिक गुरुओं में से एक हैं (अन्य ब्रह्मा, लक्ष्मीजी और चार कुमार हैं) और भगवान की शुद्ध भक्ति सिखाते हैं। इसलिए, तथ्यात्मक रूप से भगवान शिव की सेवा उनके द्वारा दिए गये निर्देशों का पालन भगवान विष्णु की पूजा और उनके पवित्र नामों की जाप करना है।

प्रश्न २: जब भी कोई वैष्णव आता है, तो हम उनका संग लेने के लिए उत्सुक होते हैं। भगवान शिव सबसे वरिष्ठ वैष्णव हैं: "वैष्णवानाम यथा शंभु" और फिर भी हम उनके मंदिर नहीं जाते हैं। इसके अलावा, वैष्णव आचार्यों की आविर्भाव या तिरोभाव की तिथि में हम दोपहर तक उपवास रखते हैं, लेकिन हम शिव-रात्रि उत्सव के दिन ऐसा नहीं करते हैं, जो भगवान शिव के विष पीने का प्रतीक है। ऐसा क्यों है?

उत्तर: यह प्रश्न एक बार पहले पूछा गया था, और यह मैंने जो उत्तर दिया है। = वैष्णवों को भगवान शिव के मंदिरों में जाने से रोका या हतोत्साहित नहीं किया जाता है। वास्तव में, भगवान चैतन्य अपने दक्षिण भारत की यात्रा के दौरान कई शिव मंदिरों में गये, जहां उन्होंने हरे कृष्ण महामंत्र का कीर्तन किया और भगवान शिव के अर्चविग्रह के सामने बड़े उत्साह में नृत्य किया। लेकिन दुर्भाग्य से, आज भगवान शिव के शायद ही कोई मंदिर हैं जहां पूजा सही समझ के साथ की जाती है कि वह भगवान कृष्ण के सबसे बड़े भक्त हैं। इसलिए, भक्त आमतौर पर ऐसे मंदिरों को यात्रा का बिंदु नहीं बनाते हैं, हालांकि विशेष रूप से नतो  वे उसे टालते हैं।

किसी भी स्थिति में भगवान शिव की पूजा करने का सबसे अच्छा तरीका हरे कृष्ण मंत्र का जप करना और कृष्ण की पूजा करने के लिए हमें हमारे जीवन को समर्पित करना है। यह भगवान शिव को अत्यधिक प्रिय होगा और स्वतः रूप से हमें उनका आशीर्वाद प्राप्त होगा। निहसंदेह रूप से हमारे इस्कॉन मंदिरों में भी, भक्त शिवरात्रि को संकीर्तन करते हैं और श्रीमद्भागवतम् में वर्णित भगवान शिव की महिमा और उनकी  महान भक्ति की चर्चा करते हैं और उनके सम्मान में एक भोज भी देते हैं।

रोमापद स्वामी द्वारा जवाब दिया गया है। ब्लॉग अच्छा लगे तो इसे लाइक और शेयर करे🙏🙏

हरे कृष्ण

“परम विजयते श्रीकृष्ण संकीर्तनम” सदा ही भगवान के नाम को जपिए “हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे।” और ख़ुश रहिए।😇🙏😇

http://www.romapadaswami.com/node/754

1
1636