श्रीमती राधारॉनी की स्थिति, गुण, आविर्भाव और कृपा

श्रीमती राधारॉनी
राजेश पाण्डेय, पीएच॰डी॰ !
16 Sep 2018

श्रीमती राधारॉनी की स्थिति, गुण, आविर्भाव और कृपा

आप सभी लोगों को राधाष्टमी की शुभकामनाएँ: आइए हम सब राधारानी से उनकी कृपा के लिए प्रार्थना करें! और इसका मतलब है यह है कि हमें सबकुछ को हृदय से पूर्ण समर्पण के साथ उनके प्रियमान, श्री कृष्ण की सेवा में लगाना।

राधारानी की प्रकृति कृष्ण से अविभाज्य है:

भगवान और भगवान की अंतरंगा शक्ति अलग नहीं है। मैं इसे फिर से कहूंगा: भगवान और भगवान की अंतरंगा शक्ति अलग नहीं है। भगवान और उनकी शक्ति अलग नहीं हैं, जैसे सूर्य और सूर्य की चमक अलग नहीं है। आप सूरज के बिना चमक नहीं पाएंगे, न ही चमक के बिना सूरज। इसी प्रकार, आपको श्रीमती राधारानी के बिना कृष्ण नहीं मिलेगे, या कृष्ण के बिना राधारानी नहीं मिलेंगी।

राधारानी के गुण:

श्रीमती राधारानी कृष्ण के आकर्षण की प्रतिरूप हैं ... कृष्ण को मदन-मोहन के रूप में जाना जाता है, अर्थात कामदेव के आकर्षित करने वाला यानिकि जो सभी भौतिक आकर्षणों का आकर्षण है। श्रील कृष्णदास कविराज गोस्वामी द्वारा गोविंदा-लीलामृत में, राधारानी की मादा तोता और कृष्ण के नर तोता के बीच एक चर्चा है। कृष्ण का नर तोता मादा तोते से कहता हैं: "मेरी प्यारी साड़ी, कृष्ण के बांसुरी है और वो ब्रह्मांड में सभी महिलाओं के हृदय को मंत्रमुग्ध कर देते हैं।और वह सभी सुंदर गोपीयों का आनंद लेते हैं, और वह कामदेव को भी मंत्रमुग्ध कर देते हैं। उनकी महिमा का गुणगान करने दें।" लेकिन राधारानी की मादा तोता उनके गुणों का वर्णन मदन-मोहन-मोहिनी के रूप में करती है: "श्रीमती राधारानी की स्नेह, उनकी उत्तम सुंदरता और अच्छे व्यवहार, उनकी कलात्मक नृत्य और कीर्तन और उनकी काव्य रचना इतनी आकर्षक है कि वे कृष्ण के मन को मोहित कर लेती हैं, जो ब्रह्मांड में हर किसी के मन को मोहित करते हैं।"

राधारॉनी का आविर्भाव:

बहुत विनम्र समायोजन में श्रीमती राधारानी ने रावल में अपना आविर्भाव किया। यह बहुत ही अद्भुत लीला का वर्णन है। राधारानी  मां और पिता कीर्तिदा और वृषभानु - यशोदा और नंद महाराज की तरह - अपने पिछले जीवनकाल में भगवान माधव की पत्नी लक्ष्मीदेवी को अपनी बेटी के रूप में प्राप्त करने के लिए महान तपस्या कर चुके थे। यह उनकी इच्छा थी। जब वे वृंदावन में रहते थे नंद और याशोदा की तरह, उनके भी बच्चे नहीं थे। इसलिए वे यमुना नदी के पूर्वी तट पर गोकुल अपने प्रिय मित्र नंद और यशोदा के नजदीक रहने चले गए। वृषभानु महराज के घर के तुरंत बाद, यमुना बहती थी। (अब यह सिर्फ सूखे नदी के बिस्तर पर है।

एक दिन महाराज वृषभानु सुबह जल्दी यमुना में स्नान करने गये। जैसे ही वह नदी में से बाहर निकल रहे थे, उन्होंने चांद के चमक की तरह एक सुनहरा कमल देखा। उन्होंने अपने घर के पीछे पहले कभी ऐसा कुछ नहीं देखा था। तो स्वाभाविक रूप से वे बहुत बहुत आकर्षित हुए थे और उसे देखने के लिए चले गये। जैसे ही वे कमल के फूल के पास गये, ब्रह्माजी उनके सामने प्रकट हुए और उनको बताया: "यह कमल आपकी बेटी श्रीमती राधारानी का जन्मस्थान है। इसलिए आप उसकी बहुत सावधानी से देखभाल करें।" वृषभानु कमल के पास गये और उसके अंदर एक खूबसूरत प्रबल सुनहरा रूप देखा - श्रीमती राधारानी के रूप को देखा। उसने सावधानीपूर्वक और सुकोमल सी छोटी बच्ची को ले लिया और उसे अपनी पत्नी, कीर्तिदा को दिया और समझाया, "यह ब्रह्माजी के द्वारा प्रबन्ध किया गया है ताकि हमारी प्रार्थना पूरी हो जाए।" इस तरह, श्रीमती राधारानी ने उनकी दिव्य प्राकट्य बनाई।

उपर्युक्त तीन विवरण 2005 में राधाष्टमी पर श्रील रोमपाद स्वामी द्वारा दिए गए प्रवचन से अनुकूलित हैं। उनके द्वारा विशेष रूप से सप्ताह के निर्देशों के लिये लिखा गया था)।

 

राधारानी की कृपा:

चूंकि श्रीमती राधारानी भगवान की आह्लादिनी शक्ति है, इसलिए वह कृष्ण की भक्ति प्रदायिनी है। केवल उनकी कृपा से ही कोई कृष्ण के मधुर लीलाओं के आंतरिक साम्राज्य तक पहुंच सकता है। वृंदावन की प्रकृति यह है कि हर कोई कृष्ण से प्रेम करता है - गाय, ग्वालबाल, गोपीयां, बुजुर्ग, पेड़ और पक्षी और जंगली जानवर, नदियाँ, पर्वत - हर कोई कृष्ण से प्रेम करता है! सबसे दुर्भाग्यशाली आत्माओं के रूप में, हम यहां देवी धाम में संघर्ष कर रहे हैं। लेकिन राधा की मधुर कृपा हमको सीधे तौर पर भगवद धाम में ले जा सकती है। आइए हम उनकी दया के लिए राधारानी से प्रार्थना करें! और इसका मतलब यह है कि हमें सबकुछ को हृदय के साथ पूर्ण रूप से समर्पित भाव में उनके प्रियमान, श्री कृष्ण की सेवा में लगाना।

2
898