वास्तविक वैराग्य भगवान के साथ आसक्ति है।

भगवान
नेहा!
26 Apr 2019

भगवद गीता के 5 वें अध्याय में, कृष्ण वैराग्य के बारे में बोलते हैं। वह यह स्पष्ट रूप से कहते हैं कि जिसे वैराग्य कहा जाता है वह वास्तव में योग है। चूँकि आपको आसक्ति के बिना विरक्त नहीं किया जा सकता है, भगवान के साथ संबंध से ही तो आपमें विरक्ति आ सकतीं है, इसके विपरीत, यदि आप का भगवान के साथ संबंध नहीं है तो आपमें वैराग्य का कोई सवाल ही नहीं है। वैराग्य का यह विचार असत्य है, उन लोगों के लिए जो भगवान से जुड़े नहीं हैं तो यह झूठा वैराग्य हैं। यह हताशा से उत्पन्न हुआ है, लेकिन टिकाऊ नहीं है। 


चीजों की अस्थायी प्रकृति के ज्ञान या चीजों की दुखदायी प्रकृति के ज्ञान द्वारा जब आप उनसे विरक्त हो जाते हैं तो इतना ही पर्याप्त नहीं है। वैदिक पाठ में यह युगल, ज्ञान और वैराग्य बार-बार आता है, विशेष रूप से श्रुति मंत्र में ज्ञान और वैराग्य मटर की एक ही फली में दो दाने जैसे है, नक़ाब जैसा भी नहीं है, यह सिर्फ व्यावहारिक रूप से पर्यायवाची हैं, जहां ज्ञान है वहीं वैराग्य है क्योंकि ज्ञान सिखाता है, यह सिखाता है कि जो अस्थायी है उसमें कोई आश्रय नहीं है। 


जैसे दर्पण में कोई पदार्थ नहीं होता है, रेगिस्तान में पानी नहीं होता है, यह पानी की तरह दिखाई दे सकता है, परिभाषा के अनुसार रेगिस्तान वह होता है जहां पानी नहीं होता है। और एक प्रतिबिंब में, यहां एक दर्पण है और वहाँ प्रसादम की एक अच्छी प्लेट है, आगे बढ़ो और खाओ है। दर्पण में उस प्रतिबिंब में कोई पदार्थ नहीं है, बस दर्पण के कोण को थोड़ा घुमा दें और कोई प्रतिबिंब नहीं है, यहां तक ​​कि प्रतिबिंब भी चला गया। 


ये सभी परिस्थितिजन्य और अपर्याप्त हैं। जिन लोगों को ऐसी चीजों का ज्ञान होता है, उनमें वैराग्य उत्पन्न होता है, लेकिन फिर भी भोग करने की प्रवृत्ति इतनी प्रबल होती है कि जब तक भोग का वास्तविक आश्रय नहीं मिल जाता है, तब तक आप प्रतिबिंब में या मृगतृष्णा या खुशीयों का पीछा करते हैं वास्तव में जहां कोई खुशी नहीं है यहां जो कुछ भी आपके पास है वह सब अस्थायी है।

- रोमपाद स्वामी

0
847