यहाँ कुछ व्यावहारिक कदमों पर विचार किया गया है

vedashindi
आदित्य!
1 Jan 2019

परमपूज्य रोमपाद स्वामी महाराज द्वारा यहाँ कुछ व्यावहारिक कदमों पर विचार किया गया है:

1. जब फिल्में और धारावाहिक देखने के लिए तीव्र इच्छा या प्रेरित करता है, तो अपने आप को कुछ भक्ति के कामों में लगाए जैसे कि पढ़ना, जप, प्रवचन सुनना, आदि। फिल्मों को देखने के लिए टीवी / कंप्यूटर चालू करने के वेग को सहन करना चाहिए। हर बार और जैसे ही आप खुद को इस प्रलोभन में फँसे हुए पाते हैं, बस अपनी चेतना को कृष्ण के प्रति सेवा में स्थानांतरित कर दें। फिर उत्साह, निश्चय और धैर्य के साथ अपनी भक्ति को फिर से बहाल करें। साहस और धैर्य के साथ आपको इसे गुरु और कृष्ण के प्रति प्रेमपूर्ण सेवा के भाव के साथ कई बार करना होगा जितनी बार ज़रूरत है। इसके लिए कोई छोटा रास्ता या तिकडम नहीं है। यह समझें कि यह अस्थिर प्रवृत्ति भक्ति के शुरुआती दौर में दी गई है और इसे प्राप्त करने का एकमात्र तरीका है बार बार प्रयास करना और फिर से प्रयास करना। जब हम ईमानदारी से ऐसा प्रयास करते हैं, तो हम कृष्ण की दया को आकर्षित करते हैं, जो तब हमें इस से अनर्थो से बाहर निकालते है।

2. ऐसे समय में एक उच्च भक्त की मदद लें। यह ऐसे भक्त के लिए एक साधारण फोन हो सकता है और आपकी भावनाओं को साझा कर सकते हैं।

वर्णाश्रम धर्म व्यवस्था में ब्रह्मचर्य जीवन का महत्व: भाग २

3. जप करते समय सावधानीपूर्वक साधना के लिए निरंतर प्रयास करें। इसके विपरीत, सुनिश्चित करें कि आपका जप यांत्रिक नहीं हो रहा है। श्रील प्रभुपाद का उल्लेख है कि व्यक्ति को अपने जप को सुनने में मन लगाना चाहिए।

4. साथ ही, वह कृष्ण से प्रार्थना कर सकता है कि वह इस अवांछित इच्छाओ को हृदय से निकालने में मदद करें।                

भगवान श्री कृष्ण के नाम के जाप मुक्ति पाने के लिए सबसे सरल विधि है। भगवान के नाम का जप करिए और ख़ुश रहिए। “हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्ण कृष्ण हरे हरे। हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे।।”” “परम विजयते श्रीकृष्ण संकीर्तनम” इस कलियुग में यह संकिर्तन आंदोलन (कृष्ण के पवित्र नाम का सामुहिक जाप) मानवता के लिए प्रमुख वरदान है।

0
673