श्रीमद्भगवद्गीता

  1. अध्याय एक

    कुरुक्षेत्र के युद्धस्थल में सैन्यनिरीक्षण

  2. अध्याय दो

    गीता का सार

  3. अध्याय तीन

    कर्मयोग

  4. अध्याय चार

    दिव्य ज्ञान

  5. अध्याय पाँच

    कर्मयोग - कष्णभावनाभावित कर्म